शाम की विनती - Jesus Evening Pray

शाम की विनती प्रभु की विनती सांझ की विनतीपछतावे की विनतीJesus Evening Pray

सांझ की विनती

हे मेरे ईश्वर, मैं तेरी आराधना करता (करती) हैँ, और तुझे अपने सारे हृदय से प्यार करता (करती) हूँ। मैं तुझे धन्यवाद देता (देती) हूँ, क्योंकि तूने मुझे सृजा, मुझे अपनी धर्म-मंडली में भर्ती किया और बीते हुए दिनभर मुझे सम्भाला है। आज मैंने जो-जो पाप किया, उनको क्षमा कर और मेरे भले कामों को तू ग्रहण कर। मेरी नींद में मेरी रक्षा कर और परीक्षा से मुझे बचा। तेरी कृपा हमेशा मेरे साथ और उनके साथ रहे, जो मेरे प्यारे हैं।

शाम की विनती - Jesus Evening Pray

प्रभु की विनती

हे हमारे पिता, जो स्वर्ग में है, तेरा नाम पवित्र किया जावे, तेरा राज्य आवे, तेरी इच्छा जैसे स्वर्ग में है, वैसे इस पृथ्वी पर भी, पूरी हो। हमारा प्रतिदिन का आहार, आज हमें दे, और हमारे अपराध हमें क्षमा कर, जैसे हम भी अपने अपराधियों को, क्षमा करते हैं और हमें परीक्षा में न डाल, परन्तु बुराई से बचा। आमेन।

प्रणाम मरिया

प्रणाम मरिया, कृपापूर्ण, प्रभु तेरे साथ है, धन्य तू स्त्रियों में, और धन्य तेरे गर्भ का फल येसु। हे सन्त मरिया, ईश्वर की माँ, प्रार्थना कर हम पापियों के लिए अब और हमारे मरने के समय। आमेन।

प्रेरितों का धर्मसार

मैं स्वर्ग और पृथ्वी के सृष्टिकर्ता, सर्वशक्तिमान्‌ पिता ईश्वर पर विश्वास करता (करती) हूँ, और उसके एकलौते पुत्र हमारे प्रभु येसु ख़ीस्त में, मैं विश्वास करता (करती) हूँ; जो पवित्र आत्मा के द्वारा गर्भ में आए, और कुँवारी मरियम से जन्मे। उन्होंने पोन्तुस पिलातुस के शासन-काल में दुःख भोगा। वह क्रूस पर चढ़ाएं गए, मर गए, दफ़नाए गए, और अधोलोक में उतरे। वह तीसरे दिन मृतकों में से जी उठे, स्वर्ग गए, सर्वशक्तिमान्‌ पिता ईश्वर के दाहिने विराजमान हैं, और वहाँ से जीवितों और मृतकों का न्याय करने आएँगे।

मैं पवित्र आत्मा, पवित्र काथलिक कलीसिया, धर्मियों की सहभागिता; पापों की क्षमा, शरीर के पुनरुत्थान, और अनन्त जीवन में, विश्वास करता (करती) हूँ। आमेन।

प्रणाम रानी

प्रणाम रानी, दया की माँ! हमारा जीवन, हमारी मघुरता और आशा, तुझे प्रणाम! हम हेवा की निर्वासित संतान तुझे पुकारते हैं। हम इस दुःखपूर्ण संसार में रोते और विलाप करते हुए तेरा नाम लेते हैं। हे हमारी माता! कृपया हम पर दयादृष्टि डाल और हमारे इस निर्वासन के बाद अपने पवित्र फल येसु को हमें दिखा। हे दयालु! हे प्रेममयी! हे अति मधुर कुँवारी मरिया!

याद कर विनती

हे परमदयालु कुँवारी मरियम, याद कर कि यह कभी सुनने में नहीं आया कि कोई तेरी मदद माँगने और तेरी विनतियों की सहायता खोजने तेरे पास आया (आयी), और तुझसे असहाय छोड़ा गया हो। हे कुँवारियों की कुँवारी, हे मेरी माँ, इसी आसरे से मैं तेरे पास दौड़ आता (आती) हूँ, और कराहते हुए पापी के समान तेरे सामने खड़ा (खड़ी) हूँ। हे ख्रीस्त की पवित्र माँ! मेरी विनती अस्वीकार मत कर, पर दया से उसको सुन और पूरा कर। आमेन।

हे ईश्वर के दूत

हे ईश्वर के दूत, जो मेरा रखवाला है, मैं ईश्वर की दया से तेरे हाथों में सौंपा गया हूँ। मुझे उंजियाला दे, मेरी रक्षा कर और मुझे सीधा चला। आमेन।

प्र० : हे प्यारी माता कुँवारी मरिया,
सब : मेरी आत्मा को बचाने में मुझे मदद दे। | तीन बार
प्र० : प्रणाम मरिया……
प्र० : पिता और पुत्र और पवित्र आत्मा की महिमा
सब : जैसे वह आदि में थी, अब हैं और अनन्त काल तक सदा रहेगी। आमेन।

1. हमारे संत पापा, बिशप स्वामी और उनके मतलबों के लिए। प्रणाम मरिया……।
2. हमारे धर्मप्रान्त के पुरोहित, ब्रदर, सिस्टर एवं उनकी वृद्धि के लिए। प्रणाम मरिया……।
3. हमारे माता-पिता, भाई-बहनों एवं हमारी भलाई करने वालों के लिए। प्रणाम मरिया……।

4. शोधक-अग्नि के आत्माओं के लिए। प्रणाम मरिया……।

अनन्त आराम उनको दे प्रभु,
और नित्‌ नित्‌ का उंजियाला उन पर चमके।
मरे हुए विश्वासियों की आत्माएँ,
ईश्वर की दया से चैन में रहे। आमेन।

प्र० : थोड़ा समय अपने अपने आत्मा की दशा पर जाँच करें।

पछतावे की विनती

हे मेरे ईश्वर, मैं दिल से उदास हूँ कि मैंने तेरी असीम भलाई और बड़ाई के विरुद्ध अपराध किया है। मैं अपने सब पापों से बैर और घिन करता (करती) हूँ, इसलिए कि तू, हे मेरे ईश्वर, जो मेरे पूरे प्रेम के इतना योग्य है, मेरे पापों से नाराज़ हो जाता है। और मैं यह टृढ़ संकल्प करता (करती) हूँ कि तेरी पवित्र कृपा से, तेरा अपराध और कभी न करूँगा (करूंगी), और पाप की जोखिमों से दूर रहूँगा (रहुँगी) आमेन।

पछतावे की छोटी विनती

हे मेरे ईश्वर, तू सब से बड़ा और अच्छा है। मैंने पाप किया। मेरे सब पाप तेरे लिए मैं घिनाता (घिनाती) और छोड़ देता (देवी) हूँ। आमेन

येसु, मरिया और जोसेफ,
मैं अपना दिल और आत्मा आपके हाथों में सौंप देता हैं। येसु, मरिया और जोसेफ,
मेरे मरण काल में मेरी सहायता कर दीजिए।
येसु, मरिया और जोसेफ,
मैं आपकी संगति में चैन से मरने पाऊँ।

प्र० : मरिया (सबों) की सहायिका
सब : हमारे लिए प्रार्थना कर।

पिता और पुत्र और पवित्र आत्मा के नाम पर। आमेन।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ